१० प्रश्न जिनके उत्तर हर पत्नी जानना चाहती है

नज़दीकी के खास पलों में सहवास के समय ही क्यों उनके मुँह से 'मैं तुम्हें प्यार करता हूं' सुनने को मिलता है ? क्या मैं अपने पति को धोखा दे रही हूँ ?
10 question wife want to know husband solution

पतिदेव को आपके बॉस का नाम क्यों याद नहीं रहता ? नज़दीकी के खास पलों में ही क्यों उनके मुँह से ‘मैं तुम्हें प्यार करता हूं’ सुनने को मिलता है ? बाकी समय वे खामोश ही रहते हैं |

हर पत्नी को परेशान करने वाले ऐसे १० प्रश्न और उनके उत्तर यहाँ दिए जा रहे हैं|

१. क्या मैं अपने पति से बहुत अधिक अपेक्षा रखती हूँ ?
संयोग से अगर आपके पति को इस बात का इल्म है की वे अपने व्यवसाय में उतने सफ़ल नहीं हैं , जितना होना चाहिए तो आप समझदारी से उनसे इस बात पर चर्चा क्र सकती हैं | आप सहानुभूतिपूर्वक उनकी बात सुनेंगी तो उनका आत्म-विश्वास बढ़ेगा और उन्हें सांत्वना मिलेगी |
२. क्या वजह है की मेरे पति के चुम्बन में अब पहले वाली बात नहीं रही ?
माफ़ करिये , किसी काम को करने के ग़लत और सही तरीक़े नहीं होते, हर व्यक्ति का किसी काम को करने का अपना तरीका होता है , समस्या यह नहीं है की आप के पतिदेव का चुम्बन ठीक नहीं होता , बल्कि असली समस्या यह है कि आपको उनकी स्टाइल पसंद नहीं है | आपको उनके चुम्बन पसंद न आने कि वजह यह हो सकती है कि आप भावनात्मक स्टार पर ख़ुद को उन से पहले जैसा जुड़ा हुआ न पाती हों, या आप अपने और पति के बीच थोड़ा सा स्पेस चाहती हों | हो सकता है एक रात आपको अपने पति के चुम्बन में फिर वैसा ही जादू महसूस हो, जैसा पहली बार महसूस किया था आपने …
३. क्या मैं उन्हें अब भी सेक्सी लगती हूँ ? बच्चा होने के बाद मेरा वजन आठ पौंड बढ़ गया है | मेरी आँखों के कानों पर लकीरें खिंच आई हैं , मेरे बाल पकने लगे हैं | 
आप जानती हैं कि बढ़ती उम्र औरत कि सबसे बड़ी समस्या है | आप आठ पौंड का अतिरिक्त वजन काम करना शुरू कर दीजिये | बढ़ा हुआ वज़न आपका उतना नुक़सान नहीं करता , जितना उसके कारण आपके अंदर उत्पन्न हीन भावना करती है | इससे बचने के लिए आपने रूप और शरीर दोनों पर ध्यान देना शुरू कर दें |
४. वे मेरी बात सुनते क्यों नहीं ?
पुरुषों कि आम धारणा होती है कि औरतें फ़ालतू बातें अधिक करती हैं | बचपन में पुरुष अपनी मां को घर – गृहस्थी के कामों में मसरूफ़ और पिता को अख़बार से सिर ढक कर आराम फ़रमाते दिखते हैं | औरतों कि बात न सुनना पुरुषों कि हमेशा से आदत रही है | ऐसा करके पुरुष जताना चाहते हैं कि स्त्रियां इतनी महत्वपूर्ण नहीं हैं कि उनकी बात ध्यान से सुनी जाए | हो सकता है आप जिस समय बात क्र रही हैं , आपके पति का ध्यान कहीं और हो | फुरसत के क्षणों में जब पति का मूड बहुत अच्छा  हो , तब उनसे प्रेम से कहें , ” देखिये , मुझे लगता है , आप मेरी बातों पर ज्यादा गौर नहीं करते , इससे मुझे दुःख होता है ” | अगर वे बढ़िया आदमी हैं तो आप से कहेंगे , ” बाप रे ! मुझे तो इसका ख्याल भी नहीं ” |
५. सहवास के समय ही वे ‘मैं तुम से प्यार करता हूँ ‘ कहते हैं और समय क्यों नहीं ? 
बड़ी अजीब बात है , इतने क़रीब से जानने के बावजूद आप अपने पति को बिल्कुल समझ नहीं पाई | ख़ामोश रहने के उनके जो भी जाती कारण हों , हो सकता है वे इस बात से डरते हों कि प्यार का इज़हार करने पर कहीं उनका अपमान न हो जाए | उनका इस शब्दों का प्रयोग न करने का मतलब आपके प्रति उनके प्यार में कमी नहीं है और यह भी तो जरुरी नहीं कि प्यार का इज़हार बोल कर ही किया जाए | सुबह एक फूल या कॉफ़ी का प्याला देकर भी वे अपना प्यार जता सकते हैं |
६. क्या सभी पति इतने ही असामाजिक होते हैं कि पत्नी के साथ कहीं जाने की बात होती तो उनके सिर में दर्द होने लगे ?
विश्वास कीजिये , आप अकेली पत्नी नहीं हैं , जिसको ये सुनने को मिला हो ‘मैं नहीं जा सकूँगा ‘ | आपके पति के इस व्यवहार का कारण यह भी हो सकता है की वे आपसे किसी बात को लेके नाराज हों | अतः आप स्वयं अपने व्यव्हार पर पुरे निष्पक्ष भाव से विचार करें | साथ ही कभी – कभी अपनी सहेलियों के साथ बाहर जाना शुरू कर दीजिये | अच्छी बीवी होने का मतलब यह हरगिज़ नहीं की आप पूरी जिंदगी अपने पति के नाम क्र दें , भले ही उनके अंदर चाहे जितनी खूबियां हों | ७. पर पुरुष की ओर आर्षित हो गयी हूँ मैं | क्या मैं अपने पति को धोखा दे रही हूँ ? आप पहली औरत नहीं हैं जो अपने पति के अलावा किसी दूसरे पुरुष पर आसक्त हुई हो और यह सोचने लगी हो की आपके पति आपके लिए सही पुरुष हैं की नहीं ? इस प्रश्न का उत्तर सिर्फ आपके पति को दुबारा समझने से मिल सकता है , क्योंकि आपने अगर किसी पराये पुरुष पर इतनी अधिक ऊर्जा खर्च की है तो इसका मतलब यह है की आपने अपने पति पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया है | बहुत सी बातें हैं जो आपको खुश करने के लिए कोई भी अकेला आदमी कर सकता है | बहुत बातें हैं जिन्हें आप को खुश करने के लिए आपके बच्चे कर सकते हैं | उसी तरह आप अपने पति की ख़ुशी का ख्याल करने लगे तो दूसरे पुरुष के प्रति उत्पन्न आकर्षण धीरे धीरे ख़त्म हो जाएगा | कभी भी ऐसी ख़ुशी के पीछे नहीं भागना चाहिए जो कभी भी चीन सकती है | ८. मेरे पति इस बात से असंतुष्ट रहते हैं की सम्भोग के समय मुझमे प्रबल उत्तेजना (ऑर्गेज़्म ) नहीं आता | वो इस कोशिश में रहते हैं की ऐसा हो , लेकिन ऐसा नहीं हो पाता | अगर आप अपने पति की कोशिशों के कारण अज़ीज़ आ गयी हों , तो वर्षों की गलत धारणा को दूर कर दीजिये | धैर्यपूर्वक , नरमी से आप उन्हें समझाएं की सम्भोग में हर बार ऑर्गेज़्म पर नहीं पहुचने के बावज़ूद भी आपके सुख में कोई कमी नहीं आती है | ९. साल में २-४ बार मेरे पति को व्यापार के सिलसिले में शहर के बाहर दौरे पर जाना होता है | समस्या यह है की उनके जाने के बाद मैं अपने काम और बच्चों के साथ इतना आराम अनुभव करती हूँ की वे वापस लौट कर आते हैं तो परेशानी महसूस होने लगती है | उनकी वापसी के साथ मैं अपने आपको कैसे एडजस्ट करूँ ? बेशक उनका वापस आना आपको नागवार लगता है , क्योंकि उनकी गैरहाज़िरी में आपके काम में कोई रोक-टोक करने वाला नहीं था | आप अपनी मर्ज़ी से काम व आराम करती थी | पर उनके वापस आने पर आपको एडजस्ट तो करना ही है | अतः दूसरी बार आपके पति घर में आयें तो शुरू के कुछ समय तक आप खुद पर ज्यादा काबू पाने की कोशिश करें , ताकि आपको उनका आना अखेर नहीं बल्कि उनका आना एक पार्टी की तरह लगे | एक छोटी सी पार्टी भी रख सकती हैं उनके आने की ख़ुशी में | बच्चों को दरवाज़े पर वेलकम का साइन बोर्ड लगाने को कहिये | यकीन मानिए कि अगर आपने उनके घर वापस आने को जलसे के रूप में दे दिया तो आपको उनकी वापसी नागवार नहीं लगेगी | १०. मेरे पति कि एक खास आदत है जिससे मुझे बेहद तकलीफ होती है , जब कभी उनको सर्दी या फ्लू होता है तो मैं जी -जान कि बाज़ी लगा कर उनकी सेवा करती हूँ पर जब मैं बीमार होती हूँ तो मेरे पति को उससे कुछ लेना देना नहीं होता है | पत्नी कि बिमारी में पति इस तरह क्यों पेश आते हैं ? बहुत छोटी सी बात को आप बहुत बड़ा तूल दे रही हैं | अगर बुरा न माने तो कहना चाहूंगी आप बच्चे जैसा व्यवहार कर रही हैं | पहले इस बात पर गौर करें कि आपके पति आपका काम में हाथ बटाते हैं , आप शाम को अपनी किसी सहेली के साथ बाहर जाना चाहती हैं तो बच्चों को संभाल लेते हैं , और जब आप बेवजह गुस्सा होती हैं तो आपकी बातें ठंडे दिमाग से सुनते हैं , क्या यह काम है ?

Kahi Ankahi
Kahi Ankahi